Editorial Featured Rajasthan — 10 October 2012
ऐतिहासिक एवं सांस्कृतिक धरोहर संरक्षण का अनूठा प्रयास हल्दीघाटी संग्रहालय

देश भक्ति और स्वाभिमान के प्रतीक राष्ट्रनायक महाराणा प्रताप के जीवन की घटनाओं और दृष्टान्तों को विविध रूपों में संजो कर ऐतिहासिक एवं सांस्कृतिक धरोहर संरक्षण का एक अनूठा प्रयास है उदयपुर और राजसमन्द जिले की सीमा पर पहाड़ी पर स्थित हल्दीघाटी संग्रहालय ।

वीर शिरोमणी महाराणा प्रताप का जीवन वृतांत देखकर यहां न केवल ऐतिहासिक पलों की अनुभूति होती है वहीं ऐतिहासिक व सांस्कतिक धरोहर से भी साक्षात होता है। महाराणा प्रताप और मानसिंह के बीच हुए युद्घ की साक्षी रही हल्दीघाटी पहुंचने वाले सैलानीयों के देखने के लिए यह संग्रहालय एक अध्यापक मोहनलाल श्रीमाली के जीवन के संघर्षों के बीच उनकी कल्पना और उनके जुनून का जीवंत उदाहरण है। सैलानियों को ही नहीं वरन  आने वाली पीढ़ियों को यह धरोहर देशभक्ति का संदेश और प्रेरणा देती है।

मेवाड़ का राज्यचिन्ह, पन्नाधाय का बलिदान, गुफाओं में महाराणा प्रताप की अपने मंत्रियों  से गुप्त मंत्रणा, शेर से युद्घ करते  हुए प्रताप, भारतीय संसद में स्थापित महाराणा प्रताप की झांकी की प्रतिमूर्ति, मानसिंह से युद्घ करते महाराणा प्रताप, महाराणा प्रताप एवं घायल चेतक घोड़े का मिलन, महाराणा प्रताप का वनवासी जीवन के साथ-साथ उनसे जुड़े अन्य प्रसंगों को यहां आकर्षक मॉडल, चित्र एवं झांकी के रूप में प्रदर्शित किया गया है।

कृष्ण भक्ति को समर्पित मीरा बाई, महाराणा अमर सिंह, महाराणा उदय सिंह, महाराणा संग्राम सिंह (राणा सांगा),महाराणा कुम्भा एवं महाराण बप्पा रावल के पोरट्रेट भी यहां प्रदर्शित किए गए हैं। इस ऐतिहासिक विरासत का सजीव प्रस्तुतिकरण तथा चित्रण, कलाकृतियों, मूर्तिकला के रूप में तो प्रदर्शित किया ही  गया है साथ ही लाइट एवं साऊण्ड आधारित झांकीयां भी मनोरंजक रूप से बनाई गई हंै। परिसर में एक छोटा सा फिल्म थियेटर भी बना है जहां आगन्तुकों को प्रताप के जीवन से सम्बन्धित लघु फिल्म  भी देखने को मिलती है।

संग्रहालय के साथ-साथ यहां लुप्त हो रही संस्कृति के संरक्षण की दृष्टि से प्राचीन काल में कुएं से पानी बाहर निकालने के लिए रहट, कोल्हू, चड़स, तेल की घाणी, रथ, बैलगाड़ी, कृषि यंत्र, वाद्य यंत्र, वेशभूषा, बर्तन, ताले, आदि का वृहत संकलन कर उन्हें आकर्षक रूप में प्रदर्शित किया गया है।

थर्मोपॉली आॅफ इण्डिया के नाम से विख्यात हल्दीघाटी युद्घ स्थली को देखने के लिए पहले जब सैलानी यहां आते थे तो उन्हें महाराणा प्रताप के घोड़े चेतक के स्मारक के रूप में बनी एक साधारण सी छतरी देखने को मिलती थी। यहां की पीली माटी जिसके लिए कहा जाता है कि युद्घ जो माटी को चंदन बना गया के प्रति प्रगाढ़ श्रद्घा रहती थी। कई लोग इस पवित्र माटी को अपने मस्तक पर लगा कर धन्य महसूस करते थे और स्मरण स्वरूप कुछ माटी अपने साथ ले जाते थे। यहां का पहाड़ियों से घिरा प्राकृतिक परिवेश और हल्दीघाटी का संकरा मार्ग भी दर्शनीय होता था। विकास के साथ हल्दीघाटी का दर्रा का स्वरूप बदल गया और अब यहां एक पक्की सड़क बन गई है। एक पहाड़ी पर महाराणा प्रताप स्मारक भी दर्शनीय है।

आज आने वालों के लिए हल्दीघाटी का संग्रहालय इस ऐतिहासिक और प्राकृतिक परिवेश के साथ आकर्षण का एक और अनन्य केन्द्र बन गया है। इस संग्रहालय के विकास के पीछे मोहनलाल श्रीमाली के संघर्षों की गाथा छुपी है, जिन्होंने अपनी विषम आर्थिक परिस्थितियों को पार कर बी.एड किया, अध्यापक बने और इस संग्रहालय की स्थापना के लिए प्रधानाध्यापक पद से स्वेच्छिक सेवानिवृति लेकर अपनी गाढ़ी कमाई,  बचत व वी.आर.एस. का एक-एक पैसा, पुस्तैनी जमीन,जेवर व मकान बेच कर पूरा पैसा  इसमें लगा दिया। धीरे-धीरे जब परिस्थितियों ने साथ दिया, कई वरिष्ठ आईएएस अधिकारियों का सहयोग मिला तो बैंकों ने भी ऋण उपलब्ध कराया । संग्रहालय स्थापना के लिए जमीन भी उन्होंने अपने पास से खरीदी ।

संग्रहालय निर्माण से पूर्व जहां हल्दीघाटी में वर्ष में करीब पच्चीस हजार पर्यटक आते थे अब यहां इनकी तादाद बढ़ कर चार लाख से अधिक प्रतिवर्ष हो गई है, जिससे यहां लोगों को रोजगार भी मिला है। करीब 16 वर्ष की यात्रा तय करने वाले इस संग्रहालय का उदघाटन 19 जनवरी, 2003 को राज्य के राज्यपाल अंशुमान सिंह द्वारा समारोहपूर्वक किया गया। संग्रहालय की लोकप्रियता इसी से आंकी जा सकती है कि कई प्रदेशों के राज्यपाल, सांसद के रूप मे देश के वर्तमान प्रधानमंत्री सहित पचास से अधिक केन्द्र एवं राज्य सरकार के मंत्रीगण तथा सर्वोच्च न्यायालय एवं उच्च न्यायालय तथा भारतीय प्रशासनिक सेवा के दो सौ से अधिक न्यायाधिपति एवं अधिकारी संग्रहालय का  अवलोकन कर चुके हैं। आज विभिन्न प्रान्तों से बसों में स्कूली बच्चे भी इस संग्रहालय को देखने के लिए आने लगे हैं।

 अनेक ऐसे स्थल हैं जहां बड़े पैमाने पर धन खर्च करने के बाद भी सैलानी नहीं पहुंचते हैं परन्तु यहां एक व्यक्ति के प्रयास का ही परिणाम है कि न केवल सैलानियों की संख्या में आशातीत वृद्घि हुई है वरन इनका नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल हो गया है। इन्होंने इस बात को सिद्घ किया है कि मन में होंसले की उड़ान हो, कुछ कर गुजरने का जज्बा हो तो मंजिल दूर नहीं होती। सपने देखना ही काफी नहीं है जरूरत है सपनों को होंसलों के साथ पूरा किया जाए।

हल्दीघाटी संग्रहालय की स्थापना कर ऐतिहासिक एवं सांस्कृतिक विरासत को संरक्षित रखने के लिए किए गए अप्रतिम प्रयासों के लिए मोहनलाल श्रीमाली को राष्ट्रपति सम्मान के साथ-साथ तीन बार राज्य स्तरीय सम्मान से नवाजा गया है। इन्हें महाराणा मेवाड़ अलंकरण सम्मान, रानी पदमिनी पुरस्कार, राणा राज सिंह अवार्ड, महात्मा ज्योतिबा फूले लाईफ टाईम अचिवमेंट अवार्ड, यूनेस्को अवार्ड, पांच बार जिला स्तरीय पुरस्कार भी मिले और साथ ही अन्य पचास से अधिक संस्थाओं द्वारा सम्मानित किया गया। इनका संकल्प है कि भारत देश की आजादी का संग्रहालय का निर्माण करें।

Related Articles

Share

About Author

admin

(0) Readers Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Connect with Facebook


× 8 = sixty four

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>