महाराणा प्रताप युद्ध हारे या जीते— राजस्थान विश्वविद्यालय की सिंडिकेट में छाया मुद्दा

maharana pratap fight for our nation with akbar rajasthanजयपुर। राजस्थान विश्वविद्यालय में शनिवार को हुई सिंडीकेट बैठक में महाराणा प्रताप के इतिहास का मामला खासा गरमाया रहा। बैठक के दौरान, महाराणा प्रताप हल्दी घाटी के युद्ध में हारे नहीं बल्कि जीते थे इस मुद्दे को लेकर जब सिंड़ीकेट की बैठक समाप्त हुई तो विधायक और कार्यवाहक कुलपति के अलग-अलग बयानों ने सभी को सोचने पर मजबूर कर दिया।
दरअसल, बॉर्ड ऑफ स्टडीज द्वारा दिए गए पाठयक्रम में सुझावों को सिंडिकेट बैठक में रखा गया, जिसे अप्रूवल देना था। बैठक के बाद जहां विधायक और सिंडिकेट सदस्य मोहनलाल गुप्ता ने इतिहास विषय के पाठ्यक्रम में बदलाव को अप्रूवल देने की बात कही। वहीं विधायक मोहनलाल गुप्ता ने ये भी कहा कि महाराणा प्रताप हल्दी घाटी के युद्ध में हारे नहीं जीते थे। उन्होने जीत की बात के साथ ये भी कहा था कि अभी तक सभी हारे हुए पढ़ते आये हैं, मगर अब ऐसा नहीं होगा। जल्द ही महाराणा प्रताप जीते थे, ऐसा पढ़ते हुए नजर आएंगे।
सिडिकेट की बैठक के बाद जब बारी आई कार्यवाहक कुलपति राजेश्वर सिंह की, तो उन्होंने इससे साफ इन्कार किया। उन्होंने कहा कि ये महज सुझाव थे, जिन्हें सिलेबस में ऐसी कोई अप्रूवल नहीं मिली। इन्हें फिर से बीओएस में रैफर किया गया। जबकि राजेश्वर सिंह के मुताबिक ऐसे सुझावों स्वीकृति नहीं दी, इन्हें दोबारा बीओएस में दिखाया जाएगा।
बहरहाल, अभी तक सभी ने ये पढ़ा है कि महाराणा प्रताप हल्दी घाटी के युद्ध में हार गए थे, मगर सिंडीकेट की बैठक के बाद जो महौल गर्माया है, वो कब तक थमें ये पता नहीं है। मगर जिस तरह से सिंडीकेट सदस्य और कार्यवाहक कुलपति के बयान हैं, उससे माहौल और भी बिगड़ता हुआ दिखाई दे रहा है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Connect with Facebook

*