विद्यालय सहायक भर्ती में प्राइवेट स्कूलों के शिक्षकों को बोनस अंकों का लाभ नहीं

school feesबीकानेर। विद्यालय सहायक भर्ती में प्राइवेट स्कूलों के शिक्षकों को अनुभव पर बोनस अंकों का लाभ नहीं मिलेगा।
हालांकि भर्ती में शामिल होने के लिए इनसे न्यूनतम एक साल कार्य का अनुभव मांगा गया है, लेकिन एक से तीन साल के अनुभव पर निर्धारित पांच से 15 बोनस अंक केवल सरकारी स्कूल एवं राजकीय सहायता से चल रही शैक्षणिक परियोजनाओं में कार्यरत अभ्यर्थियों को ही देय होगा। प्रारंभिक शिक्षा निदेशालय की ओर से विद्यालय सहायक भर्ती-2015 की जारी विज्ञप्ति के पैरा नंबर 5.2 में इस का उल्लेख किया गया है। जिसके मुताबिक आवेदन के लिए अभ्यर्थी को राजस्थान के सरकारी स्कूल, मान्यता प्राप्त गैर सरकारी स्कूल एवं राज्य में राजकीय शैक्षणिक परियोजनाएं में न्यूनतम एक साल कार्य करने का अनुभव आवश्यक होगा।
वहीं सरकारी स्कूल और राजकीय सहायता से चल रही शैक्षणिक परियोजना में कार्यरत कार्मिक को एक से तीन साल के अनुभव पर कुल 15 बोनस अंक देय होंगे, लेकिन बोनस अंक के लिए कहीं भी मान्यता प्राप्त गैर सरकारी स्कूल का उल्लेख नहीं किया गया है। विज्ञप्ति के अनुसार आवेदनों की समीक्षा के बाद योग्य पाए गए अभ्यर्थियों को बोनस अंक अधिभार जोड़कर मेरिट तैयार की जाएगी और जिलेवार दिए गए पदों का पांच गुना अभ्यर्थियों को साक्षात्कार के लिए बुलाया जाएगा।
भूतपूर्व सैनिक और प्लेसमेंट कार्मिकों पर भी संशय
न्यायालयके आदेश के बाद भूतपूर्व सैनिकों और प्लेसमेंट एजेंसी के मार्फत शिक्षा विभाग की शैक्षणिक परियोजनाओं में लगे कार्मिकों को भी विद्यालय सहायक भर्ती के आवेदन भरने की स्वीकृति शिक्षा विभाग ने दी है, लेकिन इन अभ्यर्थियों को बोनस अंक का लाभ मिलेगा या नहीं इस पर अभी तक संशय बनाना हुआ है। प्रारंभिक शिक्षा निदेशालय ने इस संबंध में अभी तक कोई दिशा-निर्देश जारी नहीं किए है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


Connect with Facebook

*


Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.